खेलब्रेकिंग न्यूज

बहुत खूब! करमपुर स्टेडियम में फिर विजयोल्लास

गाजीपुर। विजेता योद्धा के लौटने पर घर में विजयोल्लास की जो अनुभूति होती है। कुछ वैसी ही अनुभूति सैदपुर क्षेत्र के मेघबरन सिंह स्टेडियम, करमपुर के खिलाड़ियों को भी हो रही है। ऐसा हो भी क्यों ना। स्टेडियम के तीन होनहार हॉकी खिलाड़ी तीन जून को स्टेडियम जो लौटने वाले हैं।

इंडोनेशिया के जकार्ता में सम्पन्न हुई एशिया कप हॉकी (पुरुष) में कांस्य पदक दिलवाने वाली भारतीय टीम के हिस्सा रहे मेघबरन सिंह हॉकी स्टेडियम करमपुर के तीन खिलाड़ी राजकुमार पाल,पवन राजभर और उत्तम सिंह को बकायदे रोड शो के जरिये स्टेडियम लाने की भव्य तैयारी है। गुरुवार की शाम इस तैयारी को अंतिम रूप देने के बाद स्टेडियम के प्रबंधक पूर्व सांसद राधेमोहन सिंह ने बताया कि वाराणसी से आते वक्त उन खिलाड़ियों का रोड शो सुबह नौ बजे सिधौना बाजार से शुरू होगा और औड़िहार, सैदपुर, हसनपुर डगरा, जोगीवीर बाबा, उचौरी बाजार होते हुए 11 बजे मेघबरन सिंह स्टेडियम करमपुर पहुंचेगा। जहां स्टेडियम प्रबंधन की ओर से उन खिलाड़ियों का स्वागत, सम्मान होगा।

श्री सिंह ने बताया कि यह तीनों खिलाड़ी स्टेडियम के संस्थापक स्व. तेज बहादुर सिंह की आंखों के तारे रहे हैं। वह बाल्यावस्था से ही स्टेडियम में तराशे गए और आज दुनिया में भारत का झंडा बुलंद कर रहे हैं।

…स्टेडियम के खिलाड़ियों का यह रहा प्रदर्शन

पूर्व सांसद राधेमोहन सिंह ने एशिया कप हॉकी (पुरुष) में अपने स्टेडियम के होनहार खिलाड़ियों के भारतीय टीम में योगदान की चर्चा करते हुए बताया कि 28 मई को सुपर लीग का पहला मैच भारत बनाम जापान के बीच खेला गया। उसमें भारत ने 2-0 से जीत दर्ज की। दूसरा गोल अपने स्टेडियम के पवन राजभर ने किया था। फिर सुपर लीग के दूसरे मैच में भारत का मुकाबला मलेशिया से हुआ। उसमें दूसरा गोल का पास राजकुमार पाल और तीसरा गोल पवन के पास पर हुआ था। बल्कि उसमें सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के लिए पवन राजभर को मैच में मैन ऑफ द मैच का खिताब मिला था। उसके बाद तीसरा मैच भारत बनाम कोरिया के बीच खेला गया। उसमें भी पहला एवं दूसरा गोल उत्तम सिंह की मदद से हुआ था। वह मैच बराबरी पर छूटा था। फिर बारी आई कांस्य पदक के लिए भारत की जापान से भिड़ंत की। उसके हीरो राजकुमार रहे। उनके इकलौते गोल से वह पदक भारत की झोली में आ गया। इतना ही नहीं बल्कि एशिया कप हॉकी (पुरुष) टूर्नामेंट में शानदार प्रदर्शन के चलते स्टेडियम के उत्तम सिंह को राइजिंग प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट का खिताब भी मिला।

…और खिलाड़ी अपने द्रोणाचार्य को सपने को कर रहे पूरा

यह भी सुखद संयोग है कि मेघबरन सिंह स्टेडियम के संस्थापक तेज बहादुर सिंह का सपना तब साकार हो रहा है जब वह इस दुनिया को छोड़ चुके हैं। पिछले साल मुंआ कोरोना ने उनकी जिंदगी छीन ली थी। उनका सपना था कि उनके स्टेडियम के खिलाड़ी देश और दुनिया में स्टेडियम का नाम करेंगे। उसके लिए वह स्वंय मैदान में खिलाड़ियों संग पसीना बहाते। वाकई! अब यह खिलाड़ी उनका सपना पूरा करने में जुट गए हैं। ओलंपिक में ललित उपाध्याय ने भारत का प्रतिनिधित्व किया। फिर स्टेडियम के पहलवान उदयवीर, भीम ने राष्ट्रीय स्तर पर अपना झंडा फहराया और अब हॉकी में राजकुमार पाल, पवन राजभर तथा उत्तम सिंह सितारा बन दुनिया में जगमगा रहे हैं। यह भी स्टेडियम के लिए गौरव की बात है कि उसे बार-बार अपने विजेता खिलाड़ियों के इस्तकबाल का मौका मिल रहा है। स्टेडियम की इस उपलब्धि का श्रेय संस्थापक स्व. तेज बहादुर सिंह को देते हैं। कहते हैं-यह सब तेजू भैया के पुण्य प्रताप का प्रतिफल है।

यह सुनते चलें–सांसदजी का ‘मस्त' भाषण!

 ‘आजकल समाचार’ की खबरों के लिए नोटिफिकेशन एलाऊ करें

Related Articles

Back to top button